लोकसभा चुनाव में वोट डालना ग्रामीणों को पड़ा महंगा, वोट डालने वाले ग्रामीणों का करा सामाजिक बहिष्कार।

ग्रामीणों ने वोट ना डालने को लेकर पूरे गांव वालों को खिलाई थी कसम, जिसके बावजूद भी कुछ ग्रामीणों ने डाला वोट तो किया सामाजिक बहिष्कार

दीपक जोशी, बागेश्वर।

बागेश्वर के कपकोट में लोकसभा चुनाव के दौरान वोट डालना कुछ ग्रामीणों को महंगा पड़ गया क्योंकि गांव वालों ने वोट डालने वाले इन लोगों का सामाजिक बहिष्कार करा है ग्रामीणों का कहना है कि इस बार उन्होंने लोकसभा चुनाव में अपने मत का प्रयोग करें जिसके बाद ग्रामीण उनका सामाजिक बहिष्कार कर रहे हैं वहीं दूसरी ओर सामाजिक बहिष्कार का फरमान सुनाने वाले दूसरे ग्रामीणों का कहना है कि गांव में पिछले लंबे समय से बिजली पानी सड़क समेत मूलभूत सुविधाओं के लिए उस सरकार और प्रशासन से आवाज उठाते रहे लेकिन उत्तराखंड बनने के 19 साल बाद भी उनको केवल कोरे आश्वासन ही मिले जिसको देखते हुए उन्होंने इस बार के लोकसभा चुनाव का बहिष्कार करा था लेकिन कुछ लोगों ने गांव का साथ ना देते हुए चुनाव में वोट डाला जिस वजह से इन लोगों का सामाजिक बहिष्कार किया गया है, पूरी घटना कपकोट ब्लॉक के तीख डोला गाँव की है, वहीं वोट डालने के बाद हुए ग्रामीणों के सामाजिक बहिष्कार के बाद अभी ग्रामीण डरे सहमे हुए बागेश्वर के कपकोट तहसील के वाछम, तीख, डोला गाँव में रह रहे है,

वहीं सामाजिक बहिष्कार से परेशान हुए गांव वालों ने बागेश्वर की डी एम रंजना राजगुरु की शरण ली है और डीएम से न्याय की गुहार लगाई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.