गुप्ता बंधु शादी कर पहुचे अपने घर,राज्य सरकार झेल रही फजीहत।

हेमा जोशी,नैनीताल।

गुप्ता बंधुओं द्वारा औली में की गई शाही शादी पर हाईकोर्ट ने राज्य पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, राज्य सरकार और डी एम चमोली को 10 दिन फिर जवाब पेश करने के आदेश दिए हैं,, वही कोर्ट ने औली में हुए प्रदूषण, गंदगी की जाँच के लिए  एफआरआई, नेशनल इंस्टीट्यूट आफ माउंटेनियरिंग( निम) , वाडिया इंस्टिट्यूट और ज्युलोजिकल सर्वे आफ इण्डिया को पक्षकार बनाया है,,,       आज सुनवाई के दौरान प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा अपनी रिपोर्ट पेश की और प्रदूषण बोर्ड के मेंबर सेकेट्री कोर्ट में पेश हुए, कोर्ट ने प्रदूषण बोर्ड द्वारा दायर शपथ पत्र पेश करा जिससे संतुस्ट न होकर कोर्ट उनसे दुबारा विस्तृत रिपोर्ट पेश करने को कहा है, बोर्ड की रिपोर्ट में कहा गया है कि शादी होने से पहले और उसके बाद ओली में दो सौ मजदूर वहां थे जिनके लिए कोई टॉयलेट व अन्य की व्यव्स्था नही थी,, शादी के दौरान वहाँ बारिष हुई थी इनके द्वारा की गयी गन्दगी सीधे धौली गंगा में बहकर चली गयी, अपनी रिपोर्ट में यह भी कहा है कि शादी में पॉलीथिन से निर्मित वस्तुओ का प्रयोग किया गया, सफाई आदी के लिए जेसीबी मशीनों का प्रयोग किया गया। कोर्ट ने प्रदूषण बोर्ड से पूछा है कि 320 टन कूड़े का निस्तारण कैसे किया गया क्या जैविक व अजैविक कूड़ा अलग किया या नही,धौली गंगा सहित उसके आस पास के जल श्रोतो को कितना नुकशान हुआ,, कोर्ट ने प्रदूषण बोर्ड की आदेश दिए है कि वह दुबारा से जाँच करे कि वहाँ कितना पर्यावरण को नुकशान हुआ है इसके लिए जितना भी पैसा लगेगा वे उसका बिल डी एम चमोली को दें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.