आखिर क्यों परेशान है चुनाव आयोग,क्या उठाएगा अगला कदम

नोटा को लेकर भारत का चुनाव आयोग भयभीत है इसी कारण समाजवादी लोक मंच को नोटा के प्रचार हेतु वाहन की अनुमति नहीं दे रहा नोटा के प्रचार की अनुमति के लिए समाजवादी लोक मंच राज्य व देश के चुनाव आयोग का दरवाज़ा भी खटखटा चुका है,

समाजवादी लोक मंच के मुनीश कुमार द्वारा आरोप लगाया गया है कि 2 अप्रेल को सहायक चुनाव अधिकारी के समक्ष आवेदन किया गया था कि उन्हें ईवीएम में नोटा के बटन के प्रचार प्रसार के लिए अनुमति दी जाए, परन्तु चुनाव अधिकारी ने अनुमति देने के बजाय आवेदन उच्च अधिकारियों को भेज दिया गया जवाब न मिलने पर इसकी शिकायत चुनाव आयोग के शिकायती पोर्टल पर दर्ज कराई गयी शिकायत पोर्टल में दर्ज होने के बाद जानकारी दी गयी कि आप न तो नोटा के एजेंट है और न ही केंडिडेट जब इस सम्बन्ध में 8 अप्रेल सोमवार को शिकायतकर्ता ने राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी से फोन पर बात की तो कोई संतोष जनक जवाब नहीं दे सके, मुनीश ने प्रेसवार्ता करते हुए कहा कि नोटा को लेकर जनता को बहुत कम जानकारी है, बीते लोकसभा चुनाव में 60 लाख से अधिक लोगो ने नोटा का बटन दबा कर अपना आक्रोश व्यक्त किया था, जिसको लेकर चुनाव आयोग,भाजपा,कॉंग्रेस जैसे दल भयभीत है, देश के संविधान के अनुच्छेद 19 सभी देशवासियो को वाक् व अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता देता है, चुनाव आयोग अनुमति न देकर देश के संविधान का उल्लंघन कर रहा है, जिस तरह से देश में चुनाव लड़ने वाले दलों व प्रत्याशियों को प्रचार की अनुमति है उसी तरह से नोटा के प्रचार की अनुमति भी दी जानी चाहिए |

नसीम खान रामनगर।

Leave a Reply

Your email address will not be published.