अपनो पे रहम और गैरों पर सितम, कुछ इस तरह से काम कर रही प्रदेश सरकार- मिला हाई कोर्ट से नोटिश।

गोपाल के वर्मा,अधिवक्ता।

ब्यूरो रिपोर्ट।

कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज के द्वारा क्वॉरेंटाइन का उल्लंघन कर कैबिनेट बैठक में शामिल होने और अपने क्षेत्र का दौरा करने का मामला नैनीताल हाईकोर्ट की शरण में पहुंच गया है, मामले को गंभीरता से लेते हुए नैनीताल हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश की खंडपीठ ने राज्य सरकार समेत कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज को नोटिस जारी कर जवाब पेश करने के आदेश दिए हैंकोर्ट ने मामले पर सख्त रुख अपनाते हुए राज्य राज्य से पूछा है कि जब आम लोगों पर क्वारंटीन के नियमों का उल्लंघन पर मुकदमे दर्ज हो रहे हैं तो संवैधानिक पद पर बैठे लोगों के खिलाफ क्यों कार्यवाही नहीं की जा रही है। कोर्ट ने राज्य सरकार व कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज को नोटिस जारी कर 3 सप्ताह में जवाब दाखिल करने को कहा है।
आपको बता दें कि देहरादून निवासी उमेश कुमार ने नैनीताल हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर कर कहा है कि कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज के घर पर डीएम देहरादून व सीएमओ ने नोटिस चस्पा कर 20 मई से 3 जून तक क्वॉरेंटाइन में रहने को कहा था, परंतु कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज द्वारा नोटिस की धज्जियां उड़ाते हुए इस दौरान कैबिनेट की दो बैठकों में भाग लिया और क्वारंटीन होने की जानकारी कैबिनेट से छिपाई जिसकी वजह से कैबिनेट के सभी सदस्यों को क्वारंटीन होना पड़ा,, याचिकाकर्ता का कहना है कि जब आम आदमी पर क्वारंटीन के नियमों का उल्लंघन करने पर मुकदमे दर्ज किए जा रहे हैं तो सतपाल महाराज के खिलाफ अभी तक सरकार द्वारा सतपाल महाराज पर नियमों के उल्लंघन पर कोई कार्यवाही क्यो नहीं की गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.